मॉं धूमावती के 108 नाम। 108 Names of Maa Dhumavati

मॉं धूमावती के 108 नाम
मॉं धूमावती के 108 नाम

नमस्कार दोस्तों आज के इस लेख में हम मॉं धूमावती के 108 नाम पर चर्चा करेंगे। मॉं धूमावती के 108 नाम क्या है? मॉं धूमावती के 108 नाम का पाठ करने से क्या लाभ प्राप्त होता है? यह सभी इस लेख में जानेंगे।

मॉं धूमावती के 108 नाम का पाठ करने से क्या लाभ होता है?

माता धूमावती के 108 नाम का पाठ करने के बहुत सारे फायदे हैं।

  • जो व्यक्ति माता धूमावती के 108 नाम का पाठ करता है उसके जीवन से दरिद्रता दूर हो जाती है।
  • माता धूमावती की कृपा जिस पर हो जाए उसके शत्रु धूल में मिल जाते हैं। माता धूमावती शत्रु का मूल नाश कर देती है।
  • माता धूमावती का अस्त्र उनका सुप है। अतः हमें माता से प्रार्थना करना चाहिए कि हे माता! आप हमारे सभी दुख कष्ट शत्रुओं को अपने रूप में भरकर लेकर चले जाएं और हमें सौभाग्य और सुख का वरदान दें।
  • माता धूमावती के आशीर्वाद से निरोग रहने का वरदान भी मिलता है। माता इतनी दयाल व कृपालु है कि वह अपने सभी भक्तों का दुख दूर कर देती है।

मॉं धूमावती के 108 नाम निम्नलिखित हैं:

1.ॐ धूमावत्यै नमः।

Om Dhumavatyai Namah।

2.ॐ धूम्रवर्णायै नमः।

Om Dhumravarnayai Namah।

3.ॐ धूम्रपानपरायणायै नमः।

Om Dhumrapanaparayanayai Namah।

4.ॐ धूम्राक्षमथिन्यै नमः।

Om Dhumrakshamathinyai Namah।

5.ॐ धन्यायै नमः।

Om Dhanyayai Namah।

6.ॐ धन्यस्थाननिवासिन्यै नमः।

Om Dhanyasthananivasinyai Namah।

7.ॐ अघोराचारसन्तुष्टायै नमः।

Om Aghoracharasantushtayai Namah।

8.ॐ अघोराचारमण्डितायै नमः।

Om Aghoracharamanditayai Namah।

9.ॐ अघोरमन्त्रसम्प्रीतायै नमः।

Om Aghoramantrasampritayai Namah।

10.ॐ अघोरमन्त्रपूजितायै नमः।

Om Aghoramantrapujitayai Namah।

11.ॐ अट्टाट्टहासनिरतायै नमः।

Om Attattahasaniratayai Namah।

12.ॐ मलिनाम्बरधारिण्यै नमः।

Om Malinambaradharinyai Namah।

13.ॐ वृद्धायै नमः।

Om Vriddhayai Namah।

14.ॐ विरूपायै नमः।

Om Virupayai Namah।

15.ॐ विधवायै नमः।

Om Vidhavayai Namah।

16.ॐ विद्यायै नमः।

Om Vidyayai Namah।

17.ॐ विरलद्विजायै नमः।

Om Viraladvijayai Namah।

18.ॐ प्रवृद्धघोणायै नमः।

Om Pravriddhaghonayai Namah।

19.ॐ कुमुख्यै नमः।

Om Kumukhyai Namah।

20.ॐ कुटिलायै नमः।

Om Kutilayai Namah।

21.ॐ कुटिलेक्षणायै नमः।

Om Kutilekshanayai Namah।

22.ॐ कराल्यै नमः।

Om Karalyai Namah।

23.ॐ करालास्यायै नमः।

Om Karalasyayai Namah।

24.ॐ कङ्काल्यै नमः।

Om Kankalyai Namah।

25.ॐ शूर्पधारिण्यै नमः।

Om Shurpadharinyai Namah।

26.ॐ काकध्वजरथारूढायै नमः।

Om Kakadhvajaratharudhayai Namah।

27.ॐ केवलायै नमः।

Om Kevalayai Namah।

28.ॐ कठिनायै नमः।

Om Kathinayai Namah।

29.ॐ कुह्वै नमः।

Om Kuhvai Namah।

30.ॐ क्षुत्पिपासार्दितायै नमः।

Om Kshutpipasarditayai Namah।

31.ॐ नित्यायै नमः।

Om Nityayai Namah।

32.ॐ ललज्जिह्वायै नमः।

Om Lalajjihvayai Namah।

33.ॐ दिगम्बर्यै नमः।

Om Digambaryai Namah।

34.ॐ दीर्घोदर्यै नमः।

Om Dirghodaryai Namah।

35.ॐ दीर्घरवायै नमः।

Om Dirgharavayai Namah।

36.ॐ दीर्घाङ्ग्यै नमः।

Om Dirghangyai Namah।

37.ॐ दीर्घमस्तकायै नमः।

Om Dirghamastakayai Namah।

38.ॐ विमुक्तकुन्तलायै नमः।

Om Vimuktakuntalayai Namah।

39.ॐ कीर्त्यायै नमः।

Om Kirtyayai Namah।

40.ॐ कैलासस्थानवासिन्यै नमः।

Om Kailasasthanavasinyai Namah।

41.ॐ क्रूरायै नमः।

Om Krurayai Namah।

42.ॐ कालस्वरूपायै नमः।

Om Kalasvarupayai Namah।

43.ॐ कालचक्रप्रवर्तिन्यै नमः।

Om Kalachakrapravartinyai Namah।

44.ॐ विवर्णायै नमः।

Om Vivarnayai Namah।

45.ॐ चञ्चलायै नमः।

Om Chanchalayai Namah।

46.ॐ दुष्टायै नमः।

Om Dushtayai Namah।

47.ॐ दुष्टविध्वंसकारिण्यै नमः।

Om Dushtavidhvamsakarinyai Namah।

48.ॐ चण्ड्यै नमः।

Om Chandyai Namah।

49.ॐ चण्डस्वरूपायै नमः।

Om Chandasvarupayai Namah।

50.ॐ चामुण्डायै नमः।

Om Chamundayai Namah।

51.ॐ चण्डनिःस्वनायै नमः।

Om Chandanihsvanayai Namah।

52.ॐ चण्डवेगायै नमः।

Om Chandavegayai Namah।

53.ॐ चण्डगत्यै नमः।

Om Chandagatyai Namah।

54.ॐ चण्डविनाशिन्यै नमः।

Om Chandavinashinyai Namah।

55.ॐ मुण्डविनाशिन्यै नमः।

Om Mundavinashinyai Namah।

56.ॐ चाण्डालिन्यै नमः।

Om Chandalinyai Namah।

57.ॐ चित्ररेखायै नमः।

Om Chitrarekhayai Namah।

58.ॐ चित्राङ्ग्यै नमः।

Om Chitrangyai Namah।

59.ॐ चित्ररूपिण्यै नमः।

Om Chitrarupinyai Namah।

60.ॐ कृष्णायै नमः।

Om Krishnayai Namah।

61.ॐ कपर्दिन्यै नमः।

Om Kapardinyai Namah।

62.ॐ कुल्लायै नमः।

Om Kullayai Namah।

63.ॐ कृष्णरूपायै नमः।

Om Krishnarupayai Namah।

64.ॐ क्रियावत्यै नमः।

Om Kriyavatyai Namah।

65.ॐ कुम्भस्तन्यै नमः।

Om Kumbhastanyai Namah।

66.ॐ महोन्मत्तायै नमः।

Om Mahonmattayai Namah।

67.ॐ मदिरापानविह्वलायै नमः।

Om Madirapanavihvalayai Namah।

68.ॐ चतुर्भुजायै नमः।

Om Chaturbhujayai Namah।

69.ॐ ललज्जिह्वायै नमः।

Om Lalajjihvayai Namah।

70.ॐ शत्रुसंहारकारिण्यै नमः।

Om Shatrusamharakarinyai Namah।

71.ॐ शवारूढायै नमः।

Om Shavarudhayai Namah।

72.ॐ शवगतायै नमः।

Om Shavagatayai Namah।

73.ॐ श्मशानस्थानवासिन्यै नमः।

Om Shmashanasthanavasinyai Namah।

74.ॐ दुराराध्यायै नमः।

Om Duraradhyayai Namah।

75.ॐ दुराचारायै नमः।

Om Duracharayai Namah।

76.ॐ दुर्जनप्रीतिदायिन्यै नमः।

Om Durjanapritidayinyai Namah।

77.ॐ निर्मांसायै नमः।

Om Nirmamsayai Namah।

78.ॐ निराकारायै नमः।

Om Nirakarayai Namah।

79.ॐ धूमहस्तायै नमः।

Om Dhumahastayai Namah।

80.ॐ वरान्वितायै नमः।

Om Varanvitayai Namah।

81.ॐ कलहायै नमः।

Om Kalahayai Namah।

82.ॐ कलिप्रीतायै नमः।

Om Kalipritayai Namah।

83.ॐ कलिकल्मषनाशिन्यै नमः।

Om Kalikalmashanashinyai Namah।

84.ॐ महाकालस्वरूपायै नमः।

Om Mahakalasvarupayai Namah।

85.ॐ महाकालप्रपूजितायै नमः।

Om Mahakalaprapujitayai Namah।

86.ॐ महादेवप्रियायै नमः।

Om Mahadevapriyayai Namah।

87.ॐ मेधायै नमः।

Om Medhayai Namah।

88.ॐ महासङ्कटनाशिन्यै नमः।

Om Mahasankatanashinyai Namah।

89.ॐ भक्तप्रियायै नमः।

Om Bhaktapriyayai Namah।

90.ॐ भक्तगत्यै नमः।

Om Bhaktagatyai Namah।

91.ॐ भक्तशत्रुविनाशिन्यै नमः।

Om Bhaktashatruvinashinyai Namah।

92.ॐ भैरव्यै नमः।

Om Bhairavyai Namah।

93.ॐ भुवनायै नमः।

Om Bhuvanayai Namah।

94.ॐ भीमायै नमः।

Om Bhimayai Namah।

95.ॐ भारत्यै नमः।

Om Bharatyai Namah।

96.ॐ भुवनात्मिकायै नमः।

Om Bhuvanatmikayai Namah।

97.ॐ भेरूण्डायै नमः।

Om Bherundayai Namah।

98.ॐ भीमनयनायै नमः।

Om Bhimanayanayai Namah।

99.ॐ त्रिनेत्रायै नमः।

Om Trinetrayai Namah।

100.ॐ बहुरूपिण्यै नमः।

Om Bahurupinyai Namah।

101.ॐ त्रिलोकेश्यै नमः।

Om Trilokeshyai Namah।

102.ॐ त्रिकालज्ञायै नमः।

Om Trikalagyayai Namah।

103.ॐ त्रिस्वरूपायै नमः।

Om Trisvarupayai Namah।

104.ॐ त्रयीतनवे नमः।

Om Trayitanave Namah।

105.ॐ त्रिमूर्त्यै नमः।

Om Trimurtyai Namah।

106.ॐ तन्व्यै नमः।

Om Tanvyai Namah।

107.ॐ त्रिशक्त्यै नमः।

Om Trishaktyai Namah।

108.ॐ त्रिशूलिन्यै नमः।

Om Trishulinyai Namah।

निष्कर्ष

आज के इस लेख में हमने जाना मॉं धूमावती के 108 नाम क्या है? मॉं धूमावती के 108 नाम का पाठ करने से क्या लाभ प्राप्त होता है?तो दोस्तों आपको हमारा यह लेख कैसा लगा? हमें कमेंट में जरूर बताइए। अगर अच्छा लगा हो, तो अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें। माता धूमावती आप सभी का कल्याण करें। आप सभी के जीवन से कासन को दूर करें।

Post a Comment

0 Comments

Top Post Ad

Below Post Ad